Tuesday, 1 March 2016

क्या आप जानना चाहेंगे वो कौनसे 5 मामले हैं जिनमें males do not like intereference...???

Standard
males do not like intereference meri chant sahei

1. आदत या हैबिट : मेरी चंट सहेली आपने शायद ही किसी पुरुष को अपनी आदत या हैबिट के लिए कोई कमेंट या उपदेश सुनना पसंद होगा| ज्यदातर पुरुष ऐसी स्थिथि में एक ही जवाब देते है की "मैं ऐसा ही हूँ" आदतें कुछ भी हो सकती है जैसे की मजाक करने की आदत, छोटी-छोटी बातों को तूल देना, साफ़-सफ़ाई को अनदेखा करना, बेवजह ग़ुस्सा हो जाना या फिर शॉर्ट टेंपर, शंकालु प्रवृत्ति, ओवर प्रोटेक्टिव होना और काफी साडी आदतें हो सकती है.

क्या करें : मेरी चंट सहेली की येही सलाह है की ऐसी स्थिति में आपको धैर्य से काम काम लेना होगा और साथ में समझदारी भी दिखानी होगी ऐसी कोई स्तिथि पैदा हो जाये तो. इस तरह का व्यवहार पुरषों को पता होता है अपितु वे इस से भलीभाती अवगत होते है.किन्तु उनके आलस और male ego के कारन वे इसे बदल नहीं पाते|

2. दोस्त : किसी भी पुरुष को उसके दोस्तों के लिए रोक-टोक कभी भी पसंद नहीं आती है चाहे वे उसके घरवाले हो या फिर उसकी पत्नी. कई बार हम ऐसे वाकया सुनते है की ‘आप अपने उस दोस्त से अधिक मेल-जोल न रखें…!!’ या फिर  ‘आपका वो दोस्त सही नहीं है…!!’- इस तरह की दख़लअंदाज़ी करना किसी भी पुरुष को पसंद नहीं आता है| कई पुरुषों की जिंदगी में कई दोस्तों की ख़ास जगह होती है जिसे परिवार का कोई भी सदस्य हासिल नहीं कर सकता है.

क्या करें : मेरी चंट सहेली की येही सलाह है की इस तरह के मैटर को ज्यादा धयान न दे और स्मार्टली हैंडल करने की कोशिश करें | 

3. लुक्स : पुरुषों के लुक्स के बारे में कोई नेगेटिव कमेंट करना या फिर कोई बेतुकी राय देना उन्हें हो सकता है पसंद न आये. उनके तन से ज्यादा उनके मन को importance देनी चहिये. वक़्त और उम्र के साथ सभी में काफी बदलाव आते है. कई सारी जिम्मेदारिया और करियर व नौकरी का तनाव उन्हें समय से पूर्व उम्रदराज़ बना देता है |
क्या करें : मेरी चंट सहेली की येही सलाह है, की जी तरह स्त्रियों को भी उनके लुक्स के लिए कमेंट पसंद नहीं है उसी प्रकार पुरुषों को भी हो सकता है की उन्हें भी ये कमेंट्स पसंद न आये. वे अपने लुक्स से अधिक अपनी बुद्धिमानी, समझदारी और हिम्मत को अधिक महत्व देते हैं. इसलिए उनके साथ डील करते समय अतिरिक्त ध्यान देने की ज़रूरत होती है.

4. आलोचना : हम आज 21वि सदी में है और आज भी काफी सरे पुरुष ये सोचते है की आलोचना करनें का कॉपीराइट उनके पास ही है और गलती से किसी और ने चाहे वो घरवाले हो या फिर प्रेमिका या पत्नी, उनसे उनके लिए आलोचना या फिर नेगेटिव कमेंट बर्दाश्त नहीं है और इस तरह की कोई भी बात उनके भावनाओं को आहात करती है. और गलती से कोई बात या आलोचना उनके पेरेंट्स या फिर उनकी आर्थिक स्तिथि को लेकर हो जाये तो माहौल और मूड को बिगड़ते देर नहीं लगती है.

क्या करें : मेरी चंट सहेली की येही सलाह है की आज भी हम male dominating सोसाइटी में रह रहे है जहा पर वो बोल तोह कुछ भी सकते है पर सुन नहीं सकते और अगर आलोचना की बात हो तोह बिलकुल भी नहीं बर्दाह्स्त होती. तो मेरी सहेलियों ऐसी यह ज़रूरी है कि उनसे तोल-मोल कर बोलें |
5. शौक़ : ये एक human tendency होती है की, उसके जो शौक या hobby है उस पर कोई रोक टोक न करे और अगर कोई करता है तो उससे आगे चला कर चिड पैदा हो जाती है. कोई भी पुरुष अपने शौक के साथ समझोता नहीं करना चाहता और ना ही वो कसी की भी दखलंदाजी पसंद करता है. यही तो उनके ज़िंदगी को मस्ती में जीने का सबसे बड़ा ज़रिया है व आप उसी पर आरी चलाएंगे, तो कैसा लगेगा?

क्या करें : मेरी चंट सहेली की येही सलाह है की मनमुटाव से बचने के लिए उनके शौक में दखलअंदाजी न करें. शायद ही कोई ऐसा पुरुष होगा जो अपने शौक से समझौता करेगा.


  1. यह भी पढ़े : Bread Gulab Jamun recipe in hindi
  2. यह भी पढ़े : Banana Cupcakes Without Eggs

0 comments:

Post a Comment

Follow by Email